अगर आप अमीर बनना चाहते है तो कॉलेज जाना बंद करे।


<!– –>

आज का कॉलेज हमे अपने लाइफ को जीने का तरीका नहीं बताती है । जो कि इसकी असली जीवन में बहुत अधिक जरुरत है। आज का सिस्टम बताता है कि कॉलेज जाओ  पढ़ाई करो और अच्छे ग्रेड लाओ ताकि तुम एक सुरक्षित नौकरी कर सको। क्या आज कॉलेज में स्किल, पर्सनैलिटी, लीडरशिप , हमारी कम्युनिकेशन स्किल, जीवन मूल्यों और सबसे बड़ी बात कि जो असली जीवन में काम आता है जिसके पिछे हम जिन्दगी भर भागते रहते है,पैसे के बारे में कोई शिक्षा दी जाती है । सिर्फ आज कॉलेज में सिखाया जाता है कि कैसे हम एक अच्छा नौकर बने न कि यह सिखाया जाता है कि कैसे हम मालिक बने और हम कैसे हम  अपने लिए अपने  पैसे से काम कराए , हम पैसे के पीछे न भागे पैसा हमारे पिछे भागे। क्यों नहीं ये स्कूल कॉलेज  सिखाता है?


<!– –>

निष्क्रिय आमदनी कैसे कमाए ये क्यों नहीं बताता ?                आज एक स्टूडेंट पढ़ रहा तो है ,पर क्या वो सही में पढ़ना चाहता है? कहीं ऐसा तो नहीं कि घर , कॉलेज और समाज के डर के कारण कहीं वो दबाव में पढ़ रहा हो । आपको क्या लगता है कि ऐसी पढ़ाई किसी काम कि है? वो स्टूडेंट खुद अपनी जिंदगी बर्बाद कर रहा है और अपना टाइम भी वेस्ट कर रहा है।क्या लगता है ? ऐसे हमारा देश आगे बढेगा। आज यह समस्या बढ़ती जा रही है , 85% स्टूडेंट ऐसे जो वो पढ़ने के लिए कॉलेज तो जाते है। क्या वो कुछ सीखने के लिए जाते है ? क्या वह उनकी ही इच्छा है, जिनकी वजह से कॉलेज जाते है? कहीं ऐसा तो नहीं वो डिग्री के लिए कॉलेज जाते हो, तो आपको क्या लगता है? की ऐसा स्टूडेंट अपने जीवन में क्या करेगा और वह दोष देता है कि सरकार कुछ नहीं कर रही है ।वह स्टूडेंट यह नहीं सोचता की मै क्या कर रहा हूं?  जिससे कि मै भी देश के विकास में काम आ पाऊ।


<!– –>

आज कॉलेजों में सैद्धांतिक ज्ञान तो बहुत दिया का रहा है, पर सवाल यह है कि क्या ये ज्ञान का हमारे असली जीवन में उपयोग हो रहा है कि नहीं? यह ज्ञान उसी तरह से है जिस तरह से कोई व्यक्ति तैरने में पी.एच.डी. कर लिया और उसे ले जाकर नदी में छोड़ दिया जाता है ।तो उस व्यक्ति का क्या होगा? उसने तो तैरने में पी. एच. डी. तो कर लिया है पर क्या को असली जीवन में तैरना जानता है?                       अगर पढ़ाई इतनी ही हो रही है तो पी. एच. डी. वाले चपरासी का फॉर्म क्यों डाल रहे है ? आपको क्या लगता है कि ये सरकार की कमी है या जनसंख्या अधिक होना कारण है?                                                                                    न ही इसमें सरकार की कमी है और न ही जनसंख्या की कमी है ।अगर कमी है तो उस स्टूडेंट में और उसके शिक्षा में। हमे इस विषय को गंभीरता से लेना होगा तभी हम देश को आगे तक ले जा पाएंगे।


<!– –>

बल्कि इस समय हम अगर अवसर खोजे ती इंडिया में बहुत अवसर है बस जरूरत है तो अपनी आंखे खुली रखने की और कुछ जीवन में बेहतर करने की।जिससे इंडिया का एक भी युवा बेरोजगार नहीं रहेंगे।                                             अगर आपको अमीर बनना है तो तो आपको वित्तिय प्रैक्टिकल ज्ञान लेना होगा और उसे अपने असली जीवन में उपयोग करना होगा तब जाकर आप अमीर बन पाओगे।

Responses

Your email address will not be published.

+