माँ

वो जागी तुम्हे सुलाया

खुद का होश नही पर तुम्हे खिलाया

उसने पड़ने नही दिया कभी बुरा साया

वो रोयी पर तुम्हे हसाया

चोट तुम्हे लगती है दर्द उसे होता है

जान तुम्हारी जाती है सांस उसे नही आती है

दुनिया की मोहब्बत झूठी है

झुठा है ये जहान

माँ से मोहब्बत है करो बार बार बयान

हमे अच्छा लगे तो लगता है उसे अच्छा

दुनिया मे नही देखा ऐसा प्यार जो हो सच्चा

हमारे लिये वो चाँद तारे तोड़ लाये

बिना वजह वो हमको इतना चाहे

अरे उसको चहाने वालो की तो जन्नत पक्की है

वो कभी हमारा बुरा नही कर सकती है

वह ना कभी आगे बढ़ पाये ना कभी कामयाब हो पाये

ना ही रह पाये वह ज़िन्दगी मे कभी खुश

ये माँ को ना चाहने वालो का किस्सा है


<!– –>

याद रखो येह बात हमेशा

हम तो उस माँ काएक अनमोल हिस्सा है

आगे बढते बढते भूल गये तुम

क्यों ना रह पाये तुम सच्चे

भले ही बचपन से जवानी हो गयी

पर आज भी हो उसके लिये तुम बच्चे

चाहे छूटे यह जमाना सबका साथ छोड़ना

माँ तो माँ होती है उसका ना दिल तोड़ना

करो उसकी इज्जत करो उस से प्यार

ऐसे ना फरमान ना बनो यार

खुशियाँ चाहिये अगर ज़िन्दगी मे सदा

पहाड़ों को ढेर कर देती है मा की दुआ

सबको सुलाके फिर वो सोती है

अपने गमो को छुपाके हमारे लिये खुश होती है

उसके कदमो में तो जन्नत होती है

वो और कोई नहीं ऐसी सबकी माँ होती है

ऐसी सबकी माँ होती है!


<!– –>

Responses

Your email address will not be published.

+