मां की दास्तां


एक 16 साल के लड़के ने अपनी मम्मी से पूछा कि मम्मी मुझे  18  सालवे  के जन्मदिन पर क्या गिफ्ट दोगी?


तो उस लड़के की मम्मी ने उससे कहा जब तेरा 18 सलवा आएगा तो अलमारी के ऊपर देख लेना उसमें तेरा गिफ्ट रहेगा। अभी बता दूंगी तो गिफ्ट का मजा नहीं आएगा। कुछ दिन बाद वह लड़का बीमार हो गया। उसके मम्मी पापा उसको अस्पताल लेकर गए। जांच के बाद डॉक्टर ने लड़की के माता-पिता से कहा कि इसके दिल में छेद है यह 2 महीने से ज्यादा नहीं जी पाएगा।


<!– –>

2 साल भर बाद लड़का ठीक होकर घर गया। तो उसे पता चला कि उसकी मां अब नहीं रही। उसे यह पता चलते ही उसने अलमारी खोली और उसने देखा कि अलमारी में एक गिफ्ट पड़ा था। उसने जल्दी से वह गिफ्ट खोला, उस गिफ्ट एक चिट्ठी थी। उस चिट्ठी में लिखा था कि मेरे जिगर के टुकडे अगर तू यह चिट्ठी पढ़ रहा है  तो तू बिल्कुल सही सलामत होगा। तुझे याद है जब तू बीमार हुआ था तब हम तुझे अस्पताल लेकर गए थे। डॉक्टर ने कहा कि तेरे दिल में छेद है तो उस दिन मैं बहुत रोई और मैंने फैसला लिया की मेरा दिल तुझे दूंगी।याद है एक दिन तू ने कहा था कि मां तू मेरे 18 सालवें के जन्मदिन पर मुझे क्या देगी?


<!––– –>

<!– –>

तो बेटा मैं तुम्हें अपना दिल दे रही हूं। उसको हमेशा संभाल के रखना। Happy birthday.                                               यार एक मां इसलिए मर गई क्योंकि उसका बेटा जी सकें……..