लोग क्या कहेंगे ?


<!– –>

बहुत से लोग के माइंड में जबरजस्त प्लान आता है पर वे ये सोचने लगते हैं  मै ये करूगा तो लोग क्या सोचेंगे और यही सोचकर वे अपने प्लान पर काम करना बंद कर देते है और उनका प्लान धरा का धरा रह जाता है।                                    अगर आप यह सोचते है तो जान ले की आप अपने प्लान पर काम करेगे तब भी लोग कहेंगे और आप कुछ नहीं भी कर रहे हो तब भी लोग कहेंगे। वहीं लोग जो आज आपको भला बुरा कह रहे है, वहीं लोग कल आपके प्लान सफल होने पर आपसे कहेगे की मै जानता था कि ये कुछ ना कुछ करेगा। इसलिए आप लोगो की बातो पर ध्यान मत दे , जो आपको करना है वह कर दे । इस दुनिया में कुछ भी गलत सही नहीं है और कोई भी निर्णय गलत या सही नहीं होता है अगर आपने निर्णय ले लिया है तो आप उसे साबित करके दिखाइए।


<!– –>

मै एक कहानी के थ्रू आपको यह बताता हूं  लोग क्या कहेंगे? ?

एक आदमी और उसकी पत्नी बाज़ार से गधे को खरीदकर अपने घर ले जा रहे थे ।उनको घर जाने के लिए पाच गावो से होकर जाना पड़ता था। जब वे गधे को खरीदकर ले आ रहे थे तब वे दोनों पैदल चल रहे थे और गधे को पकड़कर ले जा रहे थे। जब वे पहले गाव में पहुंचे तब लोगो ने कहना शुरू किया कि ये देखो कितने मूर्ख इंसान है गधे साथ में होते हुए भी पैदल चल रहे है ये सुनकर वे दोनों गधे के ऊपर बैठ गए और आगे बड़े कुछ समय के बाद वे अगले गांव में पहुंचे तब वहां के लोगों ने उन्हें देखा और कहना शुरू किया कि देखो कितने मूर्ख इंसान हैं बेजुबान जानवर पर दोनों बैठे हुए हैं इनको दया नहीं आती। तब यह सुनकर आदमी उतर गया और उसकी पत्नी उस गधे पर बैठी रही और आगे वह लोग बढ़े तब तीसरा गांव पड़ा वहां के गांव वालों ने भी कहना शुरु किया कि देखो जोरू का गुलाम जो अपनी पत्नी  को  गधे पर बैठाया है और खुद पैदल चल रहा है। तब यह सुनकर उसकी पत्नी भी गधे से उतर गई। अब वह आदमी गधे पर बैठ गया और उसकी पत्नी पैदल चल रही थी। फिर से वो चलने लगे आगे चौथा गांव पड़ा जहां के लोगों ने भी उन्हें देखा और कहना शुरू किया देखो कितने मूर्ख लोग हैं जो कि अपनी पत्नी को पैदल चलवा रहा है और खुद गधे पर बैठा है यह सुनकर उसका पति भी गधे से उतर गया और दोनों ने गधे को अपने सिर पर उठा लिया और आगे चलने लगे जब वे पांचवें गांव से गुजर रहे थे तब लोगों ने उन्हें देखा तो कहने लगे देखो कितने मूर्ख लोग हैं  जो गधे को सर पर उठाकर ले जा रहे हैं इन पर बैठना चाहिए तो देखो यह उसे उठाकर ले जा रहे हैं।


<!– –>

इस कहानी का यह आशय है कि आप चाहे कितना भी अच्छा काम कर लो लोग कुछ ना कुछ कहेंगे ही इसलिए आप लोगो की ना सुने जो करना है उसे आप कर डाले बशर्ते की किसी का नुकसान ना हो।

Responses

Your email address will not be published.

+