Category Archives: Poems

              तुझसे कुछ ऐसी मोहब्बत करना चाहता हूँ…..

              तुझसे कुछ ऐसी मोहब्बत करना चाहता हूँ…..

 गमों को खुशी में बदल देना चाहता हूँ, तुझे पाने की चाहत हैं, तुझे पाना चाहता हूँ || हर तरफ तेरे इश्क की इस नशीली- हवा, को पूरी तरह से फैला देना चाहता हूँ || बहाकर खुद को तेरी इस हवा में, मैं पूरी तरह से मदहोश होना चाहता हूँ || इस मदहोशी को ,मैं…

माँ

माँ

रिश्तों की इतनी समझ तो नहीं थी मुझे आँख खुलते ही माँ का आँचल देखा था पहली बार पलक भी न झपकी थी कि निःस्वार्थ प्रेम का वो उदाहरण देखा था चेहरे की उस मुस्कान का कोई मोल नहीं है उस अनमोल तोहफे को सदा संजोए रखना जिसकी खामोशी का एहसास हर पल होता है…

माँ

माँ

रिश्तों की इतनी समझ तो नहीं थी मुझे आँख खुलते ही माँ का आँचल देखा था पहली बार पलक भी न झपकी थी कि निःस्वार्थ प्रेम का वो उदाहरण देखा था चेहरे की उस मुस्कान का कोई मोल नहीं है उस अनमोल तोहफे को सदा संजोए रखना जिसकी खामोशी का एहसास हर पल होता है…

रिश्ते प्यार के

रिश्ते प्यार के

जहाँ आत्मा भी एक दूसरे पर आश्रित हो जहाँ जीवन ही एक दूसरे को समर्पित हो जहाँ आँखों से ओझल होते ही खालीपन का एहसास हो जहाँ हर पल एक दूसरे को महसूस करने की आस हो जहाँ एक दूसरे को महफूज़ रखने की हर एक दुआ हो जिसकी ताकत से पास कभी बुरी नज़र…

घर याद आता हैं मुझे

घर याद आता हैं मुझे

मुझे घर याद आता हैं…. जहाँ मैं छोटे से बड़ा हुआ, जहाँ ज़िंदगी के 18 बरस गुजारे, वो आँगन जहाँ से मैने आगे बढ़ना सिखा … आज बहुत याद आता है, हाँ, आज मुझे मेरा घर याद आता हैं | वो घर जहाँ मुझे मिला माँ का प्यार,पापा की प्यार वाली पडी मार, वो घर…

एक अधूरा ख़्वाब

एक अधूरा ख़्वाब

उसकी आदत थी, वो कभी कुछ कहती ही नहीं , ईशारे तो दुर, वो कभी मुझे देखती ही नहीं | पास होकर भी, रोज दुर हों जाते थे हम | दिलो से दिलो की, मुलाकात हीं नहीं होती | सोचता था हर रोज, की आज तो वो मुझें देखेगी जरूर | इसलिए, सज-सँवर कर निकल…