Ikea founder Ingvar Kamprad success story in Hindi

इस article में मैं आप को एक ऐसे आदमी के बारे में बताने जा रहा हूँ जो एक छोटे से गाओं से निकल कर अपने हौसले और मेहनत के दम पर दुनिया का richest आदमी बन गया | उन का नाम है Ingvar Kamprad | Ingavar Ikea के founder हैं | Ikea एक company है जो लोगो को सस्ते दामों पे furniture बेचती है | Ingavar का सपना था की हर कोई सस्ते दामों पे अच्छा furniture खरीद सके और ये सपना उन्होंने अपनी company Ikea के through पूरा किया |

Ingvar का जन्म 30 march 1926 को एक छोटे से गाओं में हुआ था | Ingvar के पिता, दादा, चाचा सब businessmen थे | Business करना उन के खून में ही था | Ingvar ने अपना पहला business 6 साल की उम्र में चालू कर दिया था | वो bulk में pencils ख़रीदते थे और school में जा कर students को अच्छे खासे profit में बेच देते थे | उन्होंने pencil बेच कर कमाए हुए profit को खर्च नहीं किया बल्कि उसे save करके एक cycle खरीद ली | अब वो आस पास के गाओ में जा कर pencils बेचा करते थे |

Ingvar को dyslexia नाम की एक बीमारी भी थी जिस वजह से वो सही से पढ़ लिखनहीं पाते थे | Ingvar कभी college नहीं गए और जब वो 17 साल के थे तब उन्होंने अपने पिता से कुछ पैसे उधर लिए और Ikea नाम से एक company start कर दी |

दो साल बाद उन्होंने business में हुए profit से कुछ trucks खरीद कर उनमें सामान बेचना चालू कर दिया | 1947 में उन्होंने furniture बेचने का काम चालू किया | वो furniture को बहुत ही सस्तो दामों में बेचते थे जिससे

बाकि manufactures को काफी competition face करना पड़ा | Ingvar बहुत ही quality furniture Ikea ke warehouses से सीधा customers को सस्ते में बेचते थे | Ingvar का business बहुत ही तेजी से grow करने लगा और उनका business पूरे Sweden में फैल गया | जब Ikea का पहला store Shanghai में open हुआ तो पहले ही दिन 80 हज़ार लोगो ने Ikea Store में shopping की | आज दुनिया भर में ikea के 300 से भी जयादा stores है | Ingvar ने ना तो कभी किसी bank से loan लिया ना ही किसी investor से investment | Forbes की list के हिसाब से Ikea दुनिया की 40th most valuable brand है |

Ingvar की death 2018 में हो गयी | उनकी death के समय उनकी net worth 58 billion dollars थी | Ingvar दुनिया के richest आदमी हो सकते थे, दुनिया की सब से महंगी cars, jets और mansions खरीद सकते थे लेकिन उन्होंने अपनी ज़्यादातर दौलत donate कर दी | Ingvar जब भी travel करते थे तब वो economy class में travel करते थे, सस्ते hotels में रुकते थे क्यूंकि उन्हें मालूम था की ज़िन्दगी में असली ख़ुशी और satisfaction कमाने से नहीं ज़रूरतमंदों को देने से होती है |

ज़िन्दगी में कुछ भी करने के लिए बस आप का हौसला बुलंद होना चाहिए | ज़्यादातर लोग ये सोच कर रुक जाते हैं की अभी मेरी उम्र छोटी है या मेरे पास experience नहीं है | Ingvar ने तो 6 साल की उम्र में ही business

करना चालू कर दिया था और रही बात experience की तो वो तो आपको काम कर के ही मिलेगा |

मत सोच की तेरा सपना क्यों पूरा नहीं होता
हिम्मत वालों का इरादा कभी अधूरा नहीं होता
जिस इंसान के कर्म अच्छे होते हैं
उसके जीवन में कभी अँधेरा नहीं होता

Stay Motivated

Responses

Your email address will not be published.

+