Tag: mayank shah poems

Loading...

घर याद आता हैं मुझे

मुझे घर याद आता हैं…. जहाँ मैं छोटे से बड़ा हुआ, जहाँ ज़िंदगी के 18 बरस गुजारे, वो आँगन जहाँ से मैने आगे बढ़ना सिखा … आज बहुत याद आता है, हाँ, आज मुझे मेरा घर याद आता हैं | वो घर जहाँ मुझे मिला माँ का प्यार,पापा की प्यार वाली पडी मार, वो घर…