True opportunity 

एक बार चार अंधे थे उनको इच्छा हुई कि चलो हाथी को देखा जाए। उनके पास ही  के गांव में मेला लगने वाला था जिसमें हाथी आने वाली थी तब उन्होंने सोचा कि चलो इसी मेले में हम लोग हाथी को देखेंगे।


<!– –>

चारों अंधे पूरी तैयारी होगे  उस गांव की तरफ जाने लगे जहां मेला लगा था। वह कुछ दूरी चले थे ही कि रास्ते में उन्हें एक व्यक्ति मिला व्यक्ति ने उनसे पूछा कि आप लोग कहां जा रहे हो तब अंधो ने जवाब दिया की हम हाथी को देखने मेले में जा रहे हैं। तब उस व्यक्ति ने बोला कि आप तो अंधे हो तो आप लोग कैसे हाथी को देखेगे चलिए मै ही बता देता हूं कि हाथी कैसी होती है आप क्यों परेशान हो रहे हो?


<!– –>

तब  उसने बताना शुरू किया कि हाथी बहुत विशाल होती है और उसके चार मोटे- मोटे पैर होते है। एक पूछ होती है और एक सूंड होता है। फिर व्यक्ति ने बोला कि आप लोग वापस घर को चले जाइए । तब अंधे जिद्द करने लगे की नहीं हम हाथी देखेगे तो देखेगे और अंधे आगे उस मेले की तरफ बढ़ने लगे । कुछ देर बाद वो मेले में पहुंच गए और वहां मेले में आई हाथी के पास पहुंच गए और पहला अंधा गया, हाथी के पास तो उसके हाथ में हाथी की पैर आ गया उस अंधे ने समझा कि हाथी तो एक खंभे कि तरह होता है ।इसके बाद दूसरा अंधा हाथी के पास गया और उसके हाथ में हाथी का सूंड आ गया तब उसने समझा कि हाथी तो पेड़ो के मोटे तने के जैसा होता है।तब तीसरा अंधा हाथी के पास गया तो उसके हाथ में हाथी की पूछ आ गया तब उसने समझा कि हाथी तो एक साप कि तरह होते है । अब चौथा अंधा आया और हाथी के पास गया और उसके हाथ में हाथी कि पीठ आ  गया और उसने समझा कि हाथी तो पहाड़ कि तरह होता है । तब चारो अंधे मन ही मन उस व्यक्ति को दोष देने लगे कि वह व्यक्ति कितना झूठा है जो हमे हाथी के बारे में गलत बता रहा था।


<!– –>

अब सवाल यह है कि कौन सही था? वास्तव में , वह व्यक्ति सही था जो उस हाथी को वास्तविक रूप में देखा था । पर क्या वह अंधे सही थे । नहीं, क्योंकि उन्होंने हाथी को वास्तविक रूप में नहीं देखा था।उन्होंने तो केवल हाथी एक भाग को देखा था और उसी से यह मान लिया था कि हाथी ऐसी होती है वैसी होती है।                                                         वैसे ही हम अपनी जीवन में आने वाली अवसर के बारे में एक भाग को समझकर ये मान बैठते  है कि वो अवसर ऐसा था या वैसा था । पहले आप उस अवसर के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त करे तब उसके बाद कोई निर्णय ले।

Responses

Your email address will not be published.

+